• कविगण अपनी रचना के साथ अपना डाक पता और संक्षिप्त परिचय भी जरूर से भेजने की कृपा करें।
  • आप हमें डाक से भी अपनी रचना भेज सकतें हैं। हमारा डाक पता निम्न है।

  • Kavi Manch C/o. Shambhu Choudhary, FD-453/2, SaltLake City, Kolkata-700106

    Email: ehindisahitya@gmail.com


श्री जयप्रकाश सेठिया की ग्यारह कविता

1.
नहीं है कोई भी,
किसी के साथ
फिर भी करते हैं
साथ निभाने की बात
दिन-रात
अगर कभी हुए भी साथ
करते हैं
एक दूसरे पर आघात


क्रमांक सूची में वापस जाएं


2.
जीवन की
पगडंडी पर
चलता है आदमी
कभी धीरे
कभी हँसते
कभी रोते
कभी सुख में
कभी दुःख में
कभी धैर्य से
कभी हांफते
कभी भागते
समझ नहीं आता
क्या हम सब करते हैं
यह मृत्यु के वास्ते।


क्रमांक सूची में वापस जाएं


3.
जब तक था
कर्म करने में सझम
तब तक रहा
कर्म के मर्म को
समझने में अक्षम
जब हुआ
समझ से सक्षम
हो गया
कर्म करने में अक्षम।


क्रमांक सूची में वापस जाएं


4.
असहज होकर
किये हुए
हर काम में
दुःख ही दुःख है
सहजता में
सुख ही सुख है।


5.
अकेला
हो गया हूँ
क्योंकि
भीड़ में
खो गया हूँ।


6.
मैं
का नाश
बनाता है
महान
'मैं'
के नाश से
होता है
ज्ञान
कर्ता से
जब बन जाता है
दृष्टा
तब
होता है ध्यान।


क्रमांक सूची में वापस जाएं


7.
न था
पहले पता
और
न है अब पता
कि होगा क्या
यह जानते हुए भी
निरर्थक सोचता हूँ
लिप्त कर्म का
अनर्थ
और निर्लिप्त कर्म का
अर्थ
फिर भी कर रहा हूं
कर्ता बनने की
चेष्टा व्यर्थ
यही से है
अनर्थ।



क्रमांक सूची में वापस जाएं


8.
जो रखते हैं
सब की खबर
वे होते हैं
स्वयं से बेखबर।



क्रमांक सूची में वापस जाएं


9.
बनने के लिए ज्योति
जलना तो पड़ेगा ही
बुझोगे तब
बनोगे विभूति



10.
सबसे बड़ा
धन
सधा हुआ
मन।


11.

सबसे बड़ी
विडम्बना है
कि आदमी नहीं बनना चाहता है
आदमी।


क्रमांक सूची में वापस जाएं



कवि परिचय:
'नमन' शीर्षक नामक श्री जयप्रकाश सेठिया का प्रथम काव्य संग्रह प्रकाशित । आप हिन्दी-राजस्थान साहित्य के माहन युग कवि श्रद्धेय श्री कन्हैयालाल सेठिया जी के ज्येष्ठ पुत्र हैं। आपको कवि हृदय विरासत में मिली है। आप पिचले 45 वर्षों से सतत लिखते रहें हैं।
अपरोक्त सभी कविताएँ इनकी प्रथम पुस्तक ' नमन ' से ली गई है। इस पुअस्तक की भूमिका डॉ.अरुण प्रकाश अवस्थी जी ने लिखी है। संपर्क: 6, आशुतोष रोड, एक तल्ला, कोलकाता - 700 020 मो. 09903086968
क्रमांक सूची में वापस जाएं


1 comment:

Popular India said...

बहुत ही अच्छा लिखे हैं.
बधाई हो.

http://popularindia.blogspot.com