• कविगण अपनी रचना के साथ अपना डाक पता और संक्षिप्त परिचय भी जरूर से भेजने की कृपा करें।
  • आप हमें डाक से भी अपनी रचना भेज सकतें हैं। हमारा डाक पता निम्न है।

  • Kavi Manch C/o. Shambhu Choudhary, FD-453/2, SaltLake City, Kolkata-700106

    Email: ehindisahitya@gmail.com


महेश कुमार वर्मा के दो कविताएँ :


1. मेरे देश की कहानी


सुनो! सुनो! ऐ दुनिया वालों, सुनो! देश की नई कहानी
जहाँ रोज घटता~ ~ घोटाला! और होती बेईमानी!
भ्रष्ट्राचार संसद में नाचा, देश की हुई यही निशानी।
सुनो! सुनो! ऐ दुनिया वालों, सुनो! देश की नई कहानी
बेईमानी, घुसखोरी रग-रग में फैली
इसी पर टिकी सरकार की गाड़ी।
बढ़ रहे हैं बढ़ रहे हैं बढ़ते ही रहेंगे
भ्रष्ट्राचार को ये खिलाड़ी।
तड़पते और मरते ही रहेगें
किसान बने देश के भीखारी।
कुछ नहीं है इनका विचार
जो देश को करता हो महान।
सुनो! सुनो! ऐ दुनिया वालों, सुनो! देश की नई कहानी
जहाँ रोज घटता~ ~ घोटाला! और होती बेईमानी!
पुरुष हो या महिला, गरीब हो या लाचार
सबों के साथ हो रहा अत्याचार
यही है इनकी शक्ति का आधार
अरे! ये नई नहीं, यह बात तो है वर्षों पुरानी
यहाँ हमेशा होती रही, बेईमानी ही बेईमानी।
यही है इस देश की कहानी,
नई नहीं बस वही है कहानी
यही है मेरे देश की कहानी
यही है मेरे देश की कहानी।


2. इंसान नहीं हैवान हैं हम


इंसान नहीं हैवान हैं हम
मारते बेकसूर जीव को और
भरते अपना पेट हैं हम
इंसान नहीं हैवान हैं हम
इंसान नहीं हैवान हैं हम
मत कहो हमें सर्वाधिक बुद्धिमान व विवेकशील प्राणी
हम रोज करते हैं बेईमानी ही बेईमानी
करते हैं अत्याचार
होती है बलात्कार
देते हैं रिश्वत
कोई नहीं करता है बहिष्कार
एक दिन नहीं रोज का है धंधा
पहुंचाते हैं पैसा
डालते हैं डाका
देते हैं उसे भी आधा
पैसे दो मौज मनाओ
कुछ न कहेंगे कुछ न करेंगे
अपना काम करते रहो
वे यों ही सोते रहेंगे
पीड़ित के आने पर हंटर ही लगाएंगे
वे पुलिस हैं पुलिस ही कहलाएंगे
यह थी हमारी एक झलक
होती है यहाँ अत्याचार झपकते ही पलक
अन्याय करने में सब है मतवाला
जो जितना बड़ा उसका मुँह उतना ही काला
मत कहो हमें सर्वाधिक बुद्धिमान व विवेकशील प्राणी
हम तो हैं दुनियाँ के सर्वाधिक खतरनाक प्राणी
इंसान नहीं हैवान हैं हम
कलियुग के शैतान हैं हम
कलियुग के शैतान हैं हम
इंसान नहीं हैवान हैं हम
इंसान नहीं हैवान हैं हम



परिचय:
नाम: महेश कुमार वर्मा,
शिक्षा : प्राथमिक / मध्य विद्यालय : राजकीय कन्या मध्य विद्यालय, छत्तरपुर, पलामू (झारखण्ड); उच्च विद्यालय : राजकीय संपोषित उच्च विद्यालय, छत्तरपुर, पलामू (झारखण्ड); मैट्रिक : राजकीय संपोषित उच्च विद्यालय, छत्तरपुर, पलामू (झारखण्ड); बोर्ड : बिहार विद्यालय परीक्षा समिति, पटना; वर्ष : 1993; इंटर --I.Sc. (Math) : B. D. Evening College, Patna; बोर्ड : Bihar Intermediate Education Council, Patna; वर्ष : 1995
वर्तमान पता: DTDC कुरियर ऑफिस, सत्यनारायण मार्केट, मारुती (कारलो) शो रूम के सामने, बोरिंग रोड, पटना (बिहार), पिन : 800001 (भारत);
Contact No. : +919955239846



क्रमांक सूची में वापस जाएं

2 comments:

Katha-Vyatha said...

महेश जी, आपकी कविताओं में हमेशा नई भावना उभर कर सामने आती है। शुभकामनाओं के साथ

Shastri said...

"पुरुष हो या महिला, गरीब हो या लाचार
सबों के साथ हो रहा अत्याचार"

बहुत सशकत कविता है, विश्लेषण है!!


-- शास्त्री

-- ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जिसने अपने विकास के लिये अन्य लोगों की मदद न पाई हो, अत: कृपया रोज कम से कम 10 हिन्दी चिट्ठों पर टिप्पणी कर अन्य चिट्ठाकारों को जरूर प्रोत्साहित करें!! (सारथी: http://www.Sarathi.info)